अनूठा मास्क : इसके संपर्क में आते ही मर जाएगा कोरोनावायरस

इस मास्क के कोई वायरस इसके संपर्क में आएगा वह मर जाएगा
इस मास्क के कोई वायरस इसके संपर्क में आएगा वह मर जाएगा

पुणे :- पुणे में एक स्टार्टअप कंपनी ने थ्रीडी प्रिंटिंग तकनीक के जरिए एक विशेष किस्म का मास्क बनाया है। एक दवा कंपनी के सहियोग से बने इस मास्क को लेकर दावा किया जा रहा है कि बाहर से जैसे ही कोई वायरस इसके संपर्क में आएगा, वह मर जाएगा। मास्क बनाने वाली कंपनी ‘थिंकर टेक्नोलॉजी’ का कहना है कि इसमें वायरस को मारने के लिए एक विशेष लेप की कोटिंग की गई है। इससे सार्क-कोवि-2 यानी कोरोना वायरस तुरंत समाप्त हो जाता है।

विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग (डीएसटी) द्वारा सोमवार को मास्क जारी किया गया। थिंकर टेक्नोलॉजी के डायरेक्टर शीतल झुंबाड ने बताया कि यह लेप मानव उपयोग के लिए सुरक्षित है क्योंकि इसमें प्रयुक्त सामग्री का उपयोग साबुन और साधारण कॉस्मेटिक में किया जाता है। इस लेप में सोडियम ओलेफिन सल्फोनेट जैसे केमिकल का उपयोग किया गया है। इस लेप के संपर्क में आने पर कोरोना वायरस का बाहरी आवरण नष्ट हो जाता है। इसे सामान्य तापमान पर आसानी से इस्तेमाल किया जा सकता है।

ऐसे आया मास्क बनाने का आइडिया

शीतल ने आगे कहा कि कोरोना काल में मास्क का उपयोग बहुत महत्वपूर्ण था, लेकिन आम जनता घरेलू मास्क का अधिक से अधिक उपयोग कर रही थी। इन मास्क की गुणवत्ता में गिरावट आ रही थी। इसलिए अच्छी क्वालिटी का मास्क जरूरी था। यहीं से इस मास्क का आइडिया आया। शीतल के मुताबिक, फिलहाल नंदुरबार, नासिक और बैंगलोर के 4 सरकारी अस्पतालों के स्वास्थ्य कर्मियों को एक एनजीओ द्वारा लगभग 6000 मास्क वितरित किए गए हैं। बैंगलोर में लड़कियों के स्कूलों और कॉलेजों में भी मास्क वितरित किए गए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

हरियाणा की बच्चियां 20 जून को प्रधानमंत्री मोदी को बोलेंगी “थैंक्यू”

Fri Jun 18 , 2021
जींद। हरियाणा की एक सात वर्षीय बेटी एक अनोखी मुहिम शुरू करने जा रही है. सात वर्षीय लाडो याचिका बेटियों की सुरक्षा, देखभाल और पढ़ाई के लिए शुरू की गई योजनाओं के लिए थैंक्यू प्राइम मिनिस्टर अभियान शुरू कर रही है. इस अभियान के तहत हरियाणा प्रदेश की तमाम बच्चियां 20 […]
प्रदेश की तमाम बच्चियां 20 जून को दसों दिन प्रधानमंत्री को थैंक्यू कहने का सिलसिला जारी रहेगा.