घर लौट रहे प्रवासियों को अंदेशा दोबारा से लगने वाला है लॉकडाउन

अनिल विज ने बताया कि हरियाणा में नाइट कर्फ्यू लगाया गया,लोक डाउन नहीं लगेगा
अनिल विज ने बताया कि हरियाणा में नाइट कर्फ्यू लगाया गया,लोक डाउन नहीं लगेगा

गुरुग्राम ।  हरियाणा सरकार द्वारा बीते दिन यानि 12 अप्रैल को नाईट कर्फ्यू की घोषणा की गई थी. अब प्रदेश में रात 10:00 बजे से सुबह 5:00 बजे तक सब कुछ बंद रहेगा. सरकार द्वारा लिया गया, नाइट कर्फ्यू का यह फैसला अब गुरुग्राम  व फरीदाबाद जैसे औद्योगिक शहरों में काम करने वाले प्रवासियों के लिए चिंता का विषय बन गया है.

प्रवासी मजदूरों को सताने लगा है लॉकडाउन का डर 

जिस पर गृह मंत्री अनिल विज ने स्थिति स्पष्ट कर दी है. प्रवासियों को डर सता रहा है, क्या पहले की तरह लॉकडाउन फिर से लगने वाला है. इसी अंदेशे के चलते दूध के जले प्रवासी, अब छाछ भी फूंक-फूंक कर पीने लगे हैं. बता दे कि गुरुग्राम के राजीव चौक पर प्रवासियों की संख्या बढ़ने लगी है, अधिकतर लोग अपने घर लोट रहे हैं. लोक डाउन की टेंशन की वजह से प्रवासी अपने घर वापस लौट रहे हैं, जिसकी वजह से उद्यमी भी परेशान होने लगे हैं. उनके व्यवसाय में अधिकतर मजदूर यूपी और बिहार से हैं. अगर मजदूरों की संख्या कम हुई तो व्यवसाय ठप हो जाएगा.

हरियाणा में नहीं लगेगा लॉकडाउन – अनिल विज 

प्रदेश के गृह मंत्री अनिल विज ने प्रवासियों के घर लौटने पर विशेष रूप से प्रतिक्रिया दी है. उन्होंने बताया कि हरियाणा में आवश्यकता के अनुसार नाइट कर्फ्यू लगाया गया है. साथ ही यह बात भी निश्चित है कि हरियाणा में लोक डाउन नहीं लगेगा. अनिल विज द्वारा श्रमिकों से अपील की गई है कि वे अपने घर ना लोटे. साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि आवश्यक सेवा में लगे कर्मियों को रात के समय आने-  जाने मे किसी भी प्रकार की रोक-टोक का सामना नहीं करना पड़ेगा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

पूर्व मुख्यमंत्री ओमप्रकाश चौटाला को दिल्ली हाईकोर्ट से राहत

Wed Apr 14 , 2021
चंडीगढ़। हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री ओमप्रकाश चौटाला को दिल्ली हाईकोर्ट से राहत मिली है. दिल्ली हाईकोर्ट ने समय से पूर्व रिहाई पर विचार करने वाली मूल फाइल मांगी है, वहीं इसके साथ उनकी पैरोल अवधि 17 मई तक बढ़ा दी है. बता दें कि ओपी चौटाला ने अपनी उम्र और दिव्यागता के […]
दिल्ली हाईकोर्ट ने समय से पूर्व रिहाई पर विचार करने वाली मूल फाइल मांगी है